Latest Answer Key

● ज़िन्दगी को न करो परेशान, ट्रैफिक नियमो का करो सम्मान। ● सडक दुर्घटना से है अगर बचना, तो हमेशा हेलमेट पहने रहना। ● खुद की लाइफ को अगर है बढ़ाना, हमेशा सुरक्षा नियमो को अपनाना। ● सिर है सबसे नाज़ुक, हेलमेट लगाकर बने जागरूक।

जान लो आपके ये 10 क़ानूनी अधिकार, अगर अब ट्रैफिक पुलिस रोके तो बड़े काम आएंगे ये नियम !

भारत का ट्रैफिक पुलिस सिस्टम बहुत बड़ा है। अब सरकार लोगों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए, इ चालान सिस्टम को और भी आसान बना दिया है। भारत में निजी दोपहिया और दो चार पहिया वाहनों के लिए अलग अलग फ़ाईन रेट्स  नियम हैं। फिर भी कई बार जाने अनजाने में आपकी चालान के नाम पर ट्रैफिक पुलिस से जिदम-जिद्दी हो ही जाती है।

Traffic Police Challan Rules

Traffic Police Challan Rules

यदि आपको कभी भी ट्रैफिक पुलिस रोकती है तो है तो आपका फ़र्ज़ है कि बिना किसी बहस के आप रुक जाएँ और अफ़सर द्वारा मांगे गए कागज़ात उन्हें दिखाएँ ना कि सौपें। मोटर वाहन अधिनियम के सेक्शन 130 के मुताबिक किसी भी सार्वजानिक जगह पर केवल वर्दी पहने हुए ट्रैफिक अधिकारी के मांगने पर मोटर चालक को कागज़ात दिखाने होंगें। पर ‘दिखाने’ होंगें न कि ‘सौंपने’ होंगे।

ट्रैफिक नियमों को लेकर कंस्टीटूशन ने आपको कई अधिकार दिए है। वे कौन कौन से अधिकार हैं ? आइए जाने...

Traffic Police Challan Rights For Drivers 

1. आपका चालान काटने के लिए ट्रैफिक पुलिस के पास उनकी चालान बुक या फिर ई-चालान मशीन होना जरूरी है। यदि इन दोनों में से उसके पास कुछ भी उनके पास नहीं है तो आप फाइन के पैसे देने से मना कर सकते हैं।

2. किसी भी वैध रसीद के बिना पुलिस आपका ड्राइविंग लाइसेंस जब्त नहीं कर सकती। बाकी लाल बत्ती पार करने पर, शराब पीकर गाड़ी चलाने और ड्राइविंग के वक़्त फ़ोन पर बात करने के लिए पुलिस आपका लाइसेंस जब्त कर सकती है।

3. जब तक आप गाड़ी में बैठे हैं यातायात पुलिस आपके वाहन को खींच (TOW) नहीं सकती। पुलिस द्वारा आपका वाहन टोइंग करने उसे खाली करना होगा।
यदि आपको अपराध के लिए यातायात पुलिस द्वारा हिरासत में लिया गया है तो परीक्षण के लिए 24 घंटे के भीतर आपको मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जाना चाहिए।

4. आप ट्रैफिक पुलिस का बेल्ट नंबर और उसका नाम नोट करें। अगर उन्होंने बेल्ट न पहनी हो, तो उन्हें अपना पहचान पत्र दिखाने को कहे। अगर वह आपको अपना पहचान पत्र देने से इंकार कर देता है तो आप उसे दस्तावेज देने से इंकार कर सकते हैं।

5. यातायात नियम तोड़ने पर आपसे फाइन की राशि भी सिर्फ असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टर(वन स्टार), सब-इंस्पेक्टर(टू-स्टार) और पुलिस इंस्पेक्टर(थ्री स्टार) ही वसूल सकते हैं। ट्रैफिक हवलदार सिर्फ उनकी मदद कर सकता है लेकिन आपसे पेनल्टी नहीं वसूल सकता। ( द इंडियन मोटर व्हीकल एक्ट, सेक्शन 132)

6. अगर आप यातायात नियम तोड़ते हुए पकड़े जाते हैं, और आप पर फाइन लगाया जाता है। लेकिन आप पर 100 रुपये से ज्यादा का फाइन लगाने का अधिकार सिर्फ एएसआई या एसआई का ही होता है।

7. हेड कॉन्स्टेबल आप पर 100 रुपये से ज्यादा का फाइन नहीं लगा सकता है और कॉन्स्टेबल को आप पर किसी भी तरह का फाइन लगाने का कोई अधिकार नहीं होता है।

8. ट्रैफिक हवलदार को आपकी गाड़ी से चाबी निकालने का कोई भी अधिकार नहीं होता है। अगर वह ऐसा करता है तो आप उसे मना कर सकते हैं।

9. चैकिंग के दौरान ड्राइविंग लाइसेंस और पीयूसी ऑरिजनल होने चाहिए, जबकि रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट और इन्श्योरेंस सर्टिफिकेट की फोटो कॉपी भी चलेगी।

10. यदि आपका Driving License ज़ब्त किया हो गया हो तो आप उसकी Receipt की मांग जरूर करें।

ध्यान में रखने योग्य बात- 

यदि आपका कोर्ट का चालान हुआ है तो चालान पर्ची में सुनिश्चित करें कि निम्नलिखित विवरण अवश्य दिया गया हो।

  • वाहन की सूचना
  • परीक्षण की तारीख
  • ड्राइवर का नाम और पता
  • बनाए गए दस्तावेजों का विवरण
  • चालान अधिकारी का नाम और हस्ताक्षर
  • कोनसे नियम तोड़ने पर कोर्ट का चालान हुआ है। 
  • अदालत का नाम और पता जहां अपराध का परीक्षण किया जाएगा
आपको पुलिस के साथ किसी भी तर्क-वितर्क में न पड़कर, उनका सहयोग करना चाहिए। यदि आपसे कोई गलती हुई है तो आप पुलिस को पहले स्थिति समझाइये क्योंकि ऐसा करने पर शायद वे आपको जाने दें।

जानकरी शेयर करें और अपने साथियों  को इसके बारे में बताएं 

No comments